सर्पदंशलघु लेख

sarpadansh सॉंप डसनेका डर हर किसीको होता है| सर्पदंश घातक है या विषहीन यह पहेचाननेके लिये कुछ जानकारी जरुरी है| हमारे देश में सिर्फ ४या५ साप विषैले है| इनको हम देखकर आसानीसे पहेचान सकते है| विषैले सापोंके दो लंबे उपरी दांत विषेले होते है| शरीरमें यह विष धमनियोंसे नही तो लसिका संस्थानसे फैलता है| इसिलिये सौम्य दबावसे भी हम उसको रोक सकते है| प्राथमिक इलाज देकर हम बाधित व्यक्तीको अक्सर बचा सकते है| इसके लिये आगे चलकर कुछ विवरण दिया है|

वैज्ञानिक प्राथमिक इलाज

पीडीत व्यक्तीको लेटे रहनेको कहिये| काटी हुएँ अंग को गीले कपडेसे हल्केसे साफ किजिये|

पीडीत व्यक्तीको धीरजके साथ लेटे रहनेसे कहिये| इससे विष कम फैलता है| अब ४-६ इंच चौडी इलॅस्टिक क्रेप बँडेज लिजिये| यह बँडेज नही है तो ओढनी या साडी या धोती आदि की पट्टी इस्तेमाल कर सकते है| कांटे हुए हाथ या पैर को निचे से उपर तक यह पट्टी हलके दबाव के साथ बांधिये| हल्के दाब का निशान ये है की उसमें हम उंगली प्रविष्ट कर सकते है| अब २-३ फीट लंबी एक लाठी या प्लॅस्टिक पाईप लेकर इस अंग को बांध दे| इससे उस अंग की हलचल कम होगी| अब पीडित व्यक्तीको बांबू और चद्दर के स्ट्रेचर पर लेकर अँब्युलन्समें रखे| डॉक्टरोंको फोन पर पूर्वसूचना देनी चाहिये|

घबराहट हानीकारक होती है| इससे शरीरमें विष जल्दी फैलता है| दंश की जगह जख्म ना करे| इससे संक्रमण की आशंका बढती है| अपने मुँहसे विष चूसनेका प्रयास मत किजीये| पिडीत अंगपर रस्सी न कसे| यह बहुत नुकसानदेह होता है| मंदिर या झांड फूंकमें व्यर्थ समय नही गवॉंना चाहिये| अस्पताल पहुँचनेके पहले पट्टी नही छोडना चाहिये| यह भूल जानलेवा हो सकती है| अस्पतालमें इंजेक्शन देनेके बाद डॉक्टर पट्टी छोडेंगे|

अन्य जानकारी

हमारे देश में चार प्रमुख जाती के साथ विषेले होते है| उसमे नाग, क्रेट याने बंगारस, दुबोइया और फुरसा ये जातीयॉं है| अगर सॉंप मारा है तो अस्पताल ले चलीये|

कुछ व्यक्ती केवल डरसे ही बेहोश होते है|सर्पविष के लक्षण देखने के लिये कम से कम आधा घंटा अवधी लग सकता है|

ध्यान में रखे

कुछ लक्षण घातक है जैसे की पिडीत व्यक्तीको सुस्ती या निद्रा आना, बोलने में लडखडना या भारीपन, श्वसन के समय तकलीफ, मसुडोंसे खून चलना या कही भी रक्तस्त्राव|

सही प्राथमिक इलाज से हम रोगी को बचा सकते है| सही प्राथमिक इलाजसे डॉक्टरी इलाजभी जादा आसान होते है|

जादा कुशल आरोग्यकर्मीयोंके लिये जानकारी

नाग या क्रेट सॉंप कॉंटनेपर मस्तिष्कपर दुष्प्रभाव होता है| इस दुष्प्रभाव को रोकने के लिये निओस्टिगमिन और ऍट्रॉपिन इंजेक्शन की जरुरी है| ये इंजेक्शन हर आधे घंटे को देना चाहिये| सॉंप के विष पर सिरम का इंजेक्शन सिर्फ अस्पतालमें ही देना चाहिये| इस इंजेक्शनको भी ऍलर्जीका खतरा संभव है|

 

डॉ. शाम अष्टेकर २१, चेरी हिल सोसायटी, पाईपलाईन रोड, आनंदवल्ली, गंगापूर रोड, नाशिक ४२२ ०१३. महाराष्ट्र, भारत

message-icon shyamashtekar@yahoo.com     ashtekar.shyam@gmail.com     bharatswasthya@gmail.com

© 2009 Bharat Swasthya | All Rights Reserved.