सबम्यूकस फाईब्रोसिस (गुटखा बीमारी)

इस बीमारी मे गालों और जीभ पर असर होता है। यह सुपारी, पान मसाला, गुटका या बहुत अधिक मसाले दार खाना खाने से जुड़ी है। मुँह के श्लेष्मा के नीचे वाले उतकों पर इसका असर होता है। मुलायम उतकों की जगह सख्त रेशेदार ऊतक बन जाते हैं।

लक्षण

सबसे पहले एक सफेद सा घाव सख्त छल्ला जैसा उभरता है। इसे हम हाथ से महसूस कर सकते है। जीभ पर फाईब्रोसिस के कारण संगमरमर जैसे सख्त दाग उभरते है।

बिमारी को विकसित होने में महीने या साल लग जाते हैं। रोगी को इसका पता तब तक नहीं चलता जब तक कि यह काफी बढ़ नहीं चुकी होती। एक और लक्षण है दर्द के कारण मसालेदार खाना बिल्कुल ही न खा पाना। मुख्य समस्या है मुँह खोलने में आनेवाली दिक्कत की। मुँह खोलना मुश्किल और दर्दनाक होता है।

इलाज

दवाइयों व भौतिक चिकित्सा (फिजियो थैरेपी) से मदद मिलती है। बीटा कैरोटिन की एक गोली रोज़ दिन में एक बार छ: महीनों के लिए दें। दाँतों के डाक्टर घाव के स्थान पर गर्भनाल के सत्त का इन्जैक्शन भी देते हैं। फिसियो थैरेपी में लकड़ी के एक मुलायम टुकड़े से धीरे धीरे मुँह को खोला जाता है। इसे रोज़ मुँह में डालें और १५ – २० मिनट वहीं रखें। ऐसा दिन में दो तीन बार करें जबतक कि मुँह ठीक से खुलना शुरु न हो जाए। हर रोज़ लकड़ी को थोड़ा थोड़ा और अंदर धकेलें।

सुपारी व पान मसाला छोड़ दें
gutkha
गुटखा दॉंत और मुँह को हानीकारक है

यह अच्छी बात है कि पान मसाला खाने के खतरों के बारे में आज काफी जागरूकता है। जिन्हें इनकी लत है उनके द्वारा इस पर ढ़ेर सारा पैसा होकर बरबाद और मुँह की खतरनाक बीमारियों के मोल लेना पडता है। हाल ही में गुटका बनाने वालों ने मान लिया है कि वो इसके बारे में जानकारी फैलाने का खर्चा उठाएंगे और इसे स्कूलों के पास नहीं बेचेंगे। कुछ शहरों में पान वालों ने खुद ही कुछ खतरनाक ब्रैंड न बेचने का निर्णय किया है। लेकिन पूरी पाबंदी का कानून बने भी तो अवैध धंदा होता ही है।

जबड़े की हड्डी में चोट

जबड़े की हड्डी की चोट में हड्डी में फ्रैक्चर हो सकता है। या फिर इससे दाँत टूट भी सकते हैं। दर्द, खून निकलना, मसूड़ों की लाईन में गड़बड़ी और जबड़े को हिलाने व बंद करने में मुश्किल होना इसके मुख्य लक्षण हैं। निदान मुश्किल नहीं है। पर इसके इलाज के लिए विशेषज्ञ की य ज़रूरी है। इस फ्रैक्चर को या तो स्क्रू और प्लेट लगाकर बांधते है या दोनो जबडे वायरिंग से बांधकर ६-८ हप्ते मुँह बंद रखना पडता है

दाँत और मसूड़ों की जांच करना

इसके लिए आपको जीभ को नीचे करने वाला उपकरण (चम्मच से भी काम हो सकता है), दाँत देखने वाला शीशा और जांच के लिए एक उपकरण चाहिए। रोशनी का एक अच्छा सा साधन भी चाहिए। नीचे दिए हुई बातों पर ध्यान दीजिए-

दाँतों के बारे में
  • क्या दाँत स्वस्थ हैं? (देखें की दाँतों में टार्टर तो नहीं है या इनेमल तो हटा हुआ नहीं है)
  • कोई नया दाँत तो नहीं निकला हुआ?
  • कोई काले धब्बे तो नहीं हैं? (जिसका अर्थ है कि दाँत खराब होने शुरु हो गए हैं)
  • कोई दाँत हिल तो नहीं रहा? (चम्मच या ऐसा ही कोई उपकरण लगा के देखें – क्या वो हिलता है?)
  • कोई काला (डार्क) दाँत तो नहीं है? (काला दाँत मरा हुआ दाँत होता है)
  • दाँतों में कोई छेद तो नहीं हैं?
मसूड़ों के बारे में
healthy gums
मसुडों का स्वास्थ्य मुँह और दॉंत के
स्वास्थ्य के लिए बिलकुल जरुरी है
  • स्वस्थ मसूड़े आमतौर पर गुलाबी रंग के, कभी कभी पीले या काले से होते हैं पर कभी भी लाल नहीं होते। रंग लाल हो जाने का अर्थ है कि इनमें शोथ हो गया है।
  • स्वस्थ मसूड़े दाँतों के बीच पैने से होते हैं।
  • अस्वस्थ मसूड़े अंदर की ओर मुड़े रहते हैं। इनसे हर दाँत के आस पास छोटी सी जेब जैसी बन जाती है जिसमें कीटाणु इकट्ठे होने लगते हैं।
  • दाँतों पर प्लेक व टार्टर, मसूड़ों में पीप और सूजन की जांच करें।
डीएमएफ संख्या

दाँतों का स्वास्थ्य डीएमएफ संख्या द्वारा नापा जा सकता है। यहॉं “डी” अंग्रेज़ी के डिकेड के लिए है जिसका अर्थ होता है सड़े हुए। इसी तरह ‘एम’ मिसिंग के लिए है जिसका अर्थ है गायब। और “एफ” फिल्ड के लिए है जिसका अर्थ है छेद भरे हुए दाँत। यह गणना दूध के दाँतों व स्थाई दाँतों दोनों के लिए होती है और फिर संख्या को डीएमएफटी कहा जाता है।

डीएमएफ गणना दाँतों की सामुदायिक स्तर पर दाँतों की स्वच्छता का प्रतीक होता है। यह कई सारे कारकों पर निर्भर करता है जैसे कि चीनी की खपत, दाँतों की बीमारियों के प्रति आनुवांशिक पूर्व वृति, दाँत साफ करने की आदत और पीने के पानी में फ्लोराइड की मात्रा। ज्यादा डीएमएफ निर्देशांक जादा नुकसान दिखाता है।

 

डॉ. शाम अष्टेकर २१, चेरी हिल सोसायटी, पाईपलाईन रोड, आनंदवल्ली, गंगापूर रोड, नाशिक ४२२ ०१३. महाराष्ट्र, भारत

message-icon shyamashtekar@yahoo.com     ashtekar.shyam@gmail.com     bharatswasthya@gmail.com

© 2009 Bharat Swasthya | All Rights Reserved.