ayurveda icon आधुनिक दवाईयाँ और आयुष
दवाओं के बारे में और कुछ जानकारी दवाओं के अनचाहे असर दवाओं का वर्गीकरण आन्तरिक दवाईयाँ
तीव्रगाही प्रतिक्रिया का इलाज रखरखाव के लिए निर्देश दवाइयों की प्रस्तुति टॉनिक
संक्रमण प्रतिरोधी दवाई एक परिपूर्ण प्रिस्क्रीप्शन दवाएँ कैसे चुने? दवा उद्योग
अप्रशिक्षित डॉक्टर

आन्तरिक दवाईयाँ

शरीर के आन्तरिक अंगों के लिए दी जाने वाली दवाएँ इन अंगों तक केवल रक्त संचरण द्वारा ही पहुँच सकती हैं। कोई दवा रक्त संचरण तक कैसे पहुँचती है इसके ४ तरीके हैं।

  • पाचन मार्ग के माध्यम से: गोलियॉं, कैप्सूल, मिक्चर और बच्चों में मुँह से दी जाने वाली दवाओं के लिए ये सबसे आसान मार्ग है।
  • शरीर में इन्जैक्शन के माध्यम से दवाइयॉं पहुँचाना। त्वचा के नीचे, पेशियों के अन्दर, या शिराओं के अन्दर इंजेक्शन लगते है। अत:शिरा इन्जैक्शन दवा को कुछ ही क्षणों में ऊतकों तक पहुँचा देता है। त्वचा या पेशियों में इन्जैक्शन में दवा पहले स्थानीय सूक्ष्म नलियों से अवशोषित होती है। और फिर इनके माध्यम से शिराओं के तंत्र में प्रवेश करती है। इसमें कुछ मिनट लगते हैं।
  • फेफड़ों के माध्यम से: ऐनेस्थीशिया के लिए (ऑपरेशन हेतू बेहोश करने के लिए) इस रास्ते का इस्तेमाल होता है।
  • उपजिह्रा – जीभ के नीचे घुलने वाली दवाएँ। जैसे की कुछ देदनाशामक गोलियॉं। चाहे मुँह से यानि कि पाचन के रास्ते से दवा दी जाए या फिर इन्जैक्शन से, सबसे पहले ये शिराओं के जात में घुसती है। इसके बाद ये वहॉं से बड़ी शिराओं में पहुँचती है और फिर दिल तक पहुँचती है।
  • त्वचा का उपयोग आजकल कुछ दवाओंके प्रयोग हेतू किया जा रहा है। हृदयविकार के लिये नायट्रोग्लिसरीन पॅच इसका एक उदाहरण है।
  • गुदाशय भी एक रास्ता है, जिसको कभीकभी अपनाया जाता है। उदाहरण के तौरपर मिरगी के दौरे को रोकने के लिये पॅराल्डिहाईड दवा का एनिमा। आयुर्वेद पद्धतीमें इसके मार्गका जादा प्रयोग होता है।
मुँह से लेना

internal-medicinesमुँह से ली गई दवा पहले लीवर में पहुँचती है (जहॉं ये टूटती है) और इसके बाद बड़ी शिराओं द्वारा दिल में पहुँचती है। इस प्रक्रिया में दवा के अवशोषण में करीब ३० से ६० मिनिट लगते हैं। हालॉंकि कुछ दवाएँ (जैसे माइक्रोफइन/ऐस्परीन) १० मिनटों में ही अवशोषित हो जाती हैं। इन्जैक्शन ज़्यादा दी गई दवाएँ तेज़ी से असर करते हैं क्योंकि इनसे दवा सीधे खून मे पहुँचती है।

प्राथमिक स्वास्थ्य के दायदे में तीन चौथाई बीमारियॉं मुँह से ली जाने वाली दवाओं द्वारा ही ठीक हो जाती हैं। यहॉं इन्जैक्शन की ज़रूरत सिर्फ आपातकाल में कभी कभार पड़ती है। एक बार दवा जब दिल तक पहुँच जाती है तो वहॉं से ये रक्त संचरण द्वारा फेफड़ों तक पहुँच जाती है।

यहॉं से ये दिल के बाएँ ओर वापस पहुँचती है और फिर धमनियों के माध्यम से पूरे शरीर के ऊतकों में फैलती है। दवा कुछ समय के लिए संचरण में रहती है यानि कि शिराओं या धमनियों में। दवा इनमें कितने समय तक रहती है ये इस पर निर्भर करता है कि –

  • लीवर दवा का कितने समय में विभाजन (विघटन) करता है।
  • कितनी जल्दी गुर्दे दवा को शरीर के बाहर करते हैं।
  • कितनी दवा खून के प्रोटीन के साथ जुड़ी रहती है।
  • कितनी दवा शरीरमें चरबी (वसा) के साथ जुड़ी रहती है।

आम तौर पर दवा जल्दी ही छोटे रेणूमें विभाजित होकर शरीर के बाहर भी कर दी जाती है। ये शरीर में बहुत थोड़ी सी देर के लिए ही रहती है। परन्तु अगर दवा खून के प्रोटीनों के साथ चिपकी रह जाए तो ये शरीर में ज़्यादा देर तक रहेगी। इसलिए कुछ दवाओं को दिन में ३ या ४ बार लेना पड़ता है और कुछ को १-२ बार। कुछ दवा का निरंतर इलाज जरुरी होता है। इसके लिये तो इलाज की अवधि में खून में दवा का स्तर सरासर समतल रखा जाना ज़रूरी होता है। यह बात खास कर जीवाणु नाशक दवाओं के लिए महत्त्वपूर्ण है।

कोई भी दवा देने से पहले लीवर और गुर्दो की हालत का जायजा लेना ज़रूरी होता है। अगर लीवरू और गुर्दे सामान्य रूप से काम नहीं कर रहे हैं तो दवा ठीक से पूरी तरह शरीर से बाहर नहीं निकलेगी। इससे ये शरीर में जमा हो जाएगी जो कि सेहत के लिए नुकसान देह है। इसलिए जिन लोगों को लीवरू या गुर्दो की बीमारियॉं हों उन्हें दवाएँ बहुत ध्यान से दी जानी चाहिए। जैसे कि पीलिया (लीवर के रोग) या फिर अमूत्रता के मरीज़ों को डॉक्टरी सलाह बिना कोई भी दवाएँ नहीं दी जानी चाहिए। ऐसे मरीज़ों के लिए विशेषज्ञों द्वारा इलाज ज़रूरी है।

 

डॉ. शाम अष्टेकर २१, चेरी हिल सोसायटी, पाईपलाईन रोड, आनंदवल्ली, गंगापूर रोड, नाशिक ४२२ ०१३. महाराष्ट्र, भारत

message-icon shyamashtekar@yahoo.com     ashtekar.shyam@gmail.com     bharatswasthya@gmail.com

© 2009 Bharat Swasthya | All Rights Reserved.